Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 16, 2016 · 1 min read

रोक लो प्रदूषण

एक टुकड़ा बादल ,क्या प्यास बुझा देगा
कटें जंगल रहो प्यासे रब सजा देगा
अब रोक लो प्रदूषण बढ़ाओ हरियाली
नहीं तो नीर इक दिन तुम को दगा देगा।

316 Views
You may also like:
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
पिता
Neha Sharma
मेरे पापा
Anamika Singh
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
# पिता ...
Chinta netam " मन "
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
Loading...