Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

रोक लो प्रदूषण

एक टुकड़ा बादल ,क्या प्यास बुझा देगा
कटें जंगल रहो प्यासे रब सजा देगा
अब रोक लो प्रदूषण बढ़ाओ हरियाली
नहीं तो नीर इक दिन तुम को दगा देगा।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
361 Views
You may also like:
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
अपका दिन भी आयेगा...
Rakesh Bahanwal
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
आस्तीक भाग-एक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फिर भी
Seema 'Tu hai na'
* काल क्रिया *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुझे देखूं सुबह शाम।
Taj Mohammad
“अखने त आहाँ मित्र बनलहूँ “
DrLakshman Jha Parimal
■ सर्वोत्तम उपहार / श्री रामचरित मानस
*Author प्रणय प्रभात*
मर्द को दर्द नहीं होता है
Shyam Sundar Subramanian
Destiny
Nav Lekhika
खूबसूरत है तेरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम सुखद एहसास।
Anil Mishra Prahari
आंखों पर शायरी
Dr fauzia Naseem shad
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार कर्ण
*विवाह के तीन दशक बाद ( कहानी )*
Ravi Prakash
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
एकता में बल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️हाथ के सारे तिरंगे ऊँचे लहराये..!✍️
'अशांत' शेखर
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भारतीय महीलाओं का महापर्व हरितालिका तीज है।
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
यह दिल
Anamika Singh
धन तेरस
जगदीश लववंशी
एक शक्की पत्नि
Ram Krishan Rastogi
मैं डरती हूं।
Dr.sima
एक अलग सी दीवाली
Rashmi Sanjay
बहारन (भोजपुरी कहानी) (प्रतियोगिता के लिए)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कई दिनों से मेरी मां से बात ना हुई।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Loading...