Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

मुक्तक

Happy new year 2024

नहीं सताए दुख का आतप ,सुख की खिले जुन्हाई।
खुशियाँ हर-पल रहें खेलती, जीवन की अँगनाई।
मिले सफलता जीवन पथ पर,चमके भाग्य सितारा,
नया वर्ष हो शुभ, शुचि सबको,देते यही बधाई।।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
करें उन शहीदों को शत शत नमन
करें उन शहीदों को शत शत नमन
Dr Archana Gupta
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
Anil chobisa
*होली*
*होली*
Shashi kala vyas
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
काग़ज़ के पुतले बने,
काग़ज़ के पुतले बने,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
Ravi Prakash
■ समझो रे छुटमैयों...!!
■ समझो रे छुटमैयों...!!
*Author प्रणय प्रभात*
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
नायाब तोहफा
नायाब तोहफा
Satish Srijan
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नौकरी
नौकरी
Aman Sinha
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
Loading...