Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2023 · 1 min read

मुक्तक-

मुक्तक-
चाह ले मधुपान की उड़ती हमेशा तितलियाँ।
प्यास धरती की बुझाने ही घुमड़ती बदलियाँ।
मान बैठे ज़िंदगी में जो सफलता को खुशी,
वे उठाने में लगे हैं कोशिशों पर उँगलियाँ।।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
चार लाइनर विधा मुक्तक
चार लाइनर विधा मुक्तक
Mahender Singh
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
💐प्रेम कौतुक-392💐
💐प्रेम कौतुक-392💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
Sandeep Mishra
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
2637.पूर्णिका
2637.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
आर.एस. 'प्रीतम'
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
*एक (बाल कविता)*
*एक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पहले आप
पहले आप
Shivkumar Bilagrami
Loading...