Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2022 · 1 min read

मुक्तक7

22-11-2018

1
उनसे ख्वाबों में बात होती थी
आँखों आंखों में बात होती थी
चलता था रूठना मनाना जब
बस इशारों में बात होती थी
2
ज़िन्दगी का अजीब मेला है
भीड़ में आदमी अकेला है
मिलते उलझे हुए खुशीऔर गम
आँसुओं का बड़ा झमेला है
3
ज़िन्दगी दर्द की रवानी है
खूबसूरत मगर कहानी है
है कथानक अलग अलग लेकिन
मौत सबको गले लगानी है
4
पलते तो हैं स्वप्न हजारी आंखों में
मीठे होकर रहते खारी आँखों में
नहीं जानते दिल में कौन तुम्हारे है
हमने देखा हमें तुम्हारी आंखों में
5
पहन नफरत अगर लोगे तो जीना भूल जाओगे
अगर मय पी निगाहों से तो पीना भूल जाओगे
मुहब्बत दिल को कर देती बहुत गुमराह है यारों
अगर ये पाठ पढ़ लोगे सफीना भूल जाओगे
5
काव्य दीपक हम जलाते रहते हैं
रोज दीवाली मनाते रहते हैं
भावों के रंगों में रँग लेते हैं मन
होली सा हुड़दंग मचाते रहते हैं
6
करें प्यार जिससे उसी से शिकायत
बड़ी कब मुहब्बत से कोई इबादत
वो धनवान सबसे बड़ा है जगत में
अगर पास जिसके है चाहत की दौलत.
7
भीतर भरी उदासी लेकिन, बाहर से मुस्काते हैं
चेहरे पर हम ख़ुशी दिखाकर , लोगों को भरमाते हैं
टूट-टूट कर भले हमारी, आँखों में ही ये चुभते
लेकिन सपनों की दुनिया हम, फिर भी रोज़ सजाते हैं

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

Language: Hindi
Tag: मंच
2 Likes · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
3129.*पूर्णिका*
3129.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#चलते_चलते
#चलते_चलते
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्त्तक
मुक्त्तक
Rajesh vyas
शब्द क्यूं गहे गए
शब्द क्यूं गहे गए
Shweta Soni
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
माना अपनी पहुंच नहीं है
माना अपनी पहुंच नहीं है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
हाथ पर हाथ रखा उसने
हाथ पर हाथ रखा उसने
Vishal babu (vishu)
बचपन
बचपन
Anil "Aadarsh"
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
Rj Anand Prajapati
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
श्याम सिंह बिष्ट
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मार्केटिंग फंडा
मार्केटिंग फंडा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
*मिलता सोफे का बड़ा, उसको केवल पास (कुंडलिया)*
*मिलता सोफे का बड़ा, उसको केवल पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...