Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2017 · 1 min read

मुक्तक

तेरे लिए खुद को भुलाता चला गया!
तेरे लिए अश्क़ बहाता चला गया!
हुयी है जब भी शाम मेरे दर्द की,
शमा चाहतों की जलाता चला गया!

#महादेव_की_कविताऐं'(21)

Language: Hindi
215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर सत्य की खोज
कर सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shweta Soni
मेरी मोहब्बत का उसने कुछ इस प्रकार दाम दिया,
मेरी मोहब्बत का उसने कुछ इस प्रकार दाम दिया,
Vishal babu (vishu)
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"संयम की रस्सी"
Dr. Kishan tandon kranti
2821. *पूर्णिका*
2821. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
माँ मेरा मन
माँ मेरा मन
लक्ष्मी सिंह
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
पूर्वार्थ
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
Rituraj shivem verma
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
बेटी से प्यार करो
बेटी से प्यार करो
Neeraj Agarwal
*अनकही बातें याद करके कुछ बदलाव नहीं आया है लेकिन अभी तक किस
*अनकही बातें याद करके कुछ बदलाव नहीं आया है लेकिन अभी तक किस
Shashi kala vyas
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिखता नही किसी को
दिखता नही किसी को
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
Dushyant Kumar
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
रूठे लफ़्ज़
रूठे लफ़्ज़
Alok Saxena
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...