Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2017 · 1 min read

मुक्तक

तुमको भूल जाने का बहाना नहीं आता!
तुमसे अपने प्यार को बताना नहीं आता!
बुझती नहीं है रोशनी चाहतों की लेकिन,
अपने जख्मे-जिगर को दिखाना नहीं आता!

#महादेव_की_कविताऐं'(25)

Language: Hindi
415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
gurudeenverma198
"एक ख्वाब टुटा था"
Lohit Tamta
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
नारी का सम्मान 🙏
नारी का सम्मान 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
Harminder Kaur
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रकृति प्रेमी
प्रकृति प्रेमी
Ankita Patel
इत्तिहाद
इत्तिहाद
Shyam Sundar Subramanian
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
ये जीवन किसी का भी,
ये जीवन किसी का भी,
Dr. Man Mohan Krishna
श्री कृष्णा
श्री कृष्णा
Surinder blackpen
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
शाम
शाम
Kanchan Khanna
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
कारकुन
कारकुन
Satish Srijan
💐अज्ञात के प्रति-137💐
💐अज्ञात के प्रति-137💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
*लोन सब बट्टे खाते (कुंडलिया)*
*लोन सब बट्टे खाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
दिल में गहराइयां
दिल में गहराइयां
Dr fauzia Naseem shad
माँ मेरी जादूगर थी,
माँ मेरी जादूगर थी,
Shweta Soni
Loading...