Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2017 · 1 min read

मुक्तक

जब भी दर्दे-सितम की इन्तहाँ होती है!
बेकरार लम्हों की जुत्सजू रोती है!
यादें भी चुभती हैं पलकों में इसकदर,
जिन्द़गी अश्कों से खुद को भिगोती है!

#महादेव_की_कविताऐं'(23)

Language: Hindi
403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
मैं भारत हूं
मैं भारत हूं
Ms.Ankit Halke jha
छाती
छाती
Dr.Pratibha Prakash
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
दोहा पंचक. . . नैन
दोहा पंचक. . . नैन
sushil sarna
जंगल का रिवाज़
जंगल का रिवाज़
Shekhar Chandra Mitra
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
DrLakshman Jha Parimal
बेहतर है गुमनाम रहूं,
बेहतर है गुमनाम रहूं,
Amit Pathak
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आने जाने का
आने जाने का
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
अनिल कुमार
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
💐प्रेम कौतुक-332💐
💐प्रेम कौतुक-332💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नैन फिर बादल हुए हैं
नैन फिर बादल हुए हैं
Ashok deep
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल  ! दोनों ही स्थितियों में
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल ! दोनों ही स्थितियों में
Tarun Singh Pawar
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
जितनी मेहनत
जितनी मेहनत
Shweta Soni
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
Loading...