Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2016 · 1 min read

मुक्तक

मुक्तक

निर्धन को सहयोग दें,मिटे मान-अभिमान।
झोली भर लो प्रेम से,बढ़ जाएगी शान।।
मिल जाए संतोष धन,दें निर्धन का साथ।
जीवन उनका खिल उठे ,नभ में भरें उड़ान।।
…डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर।

222 Views
You may also like:
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H. Amin
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
दर्द।
Taj Mohammad
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
" महिलाओं वाला सावन "
Dr Meenu Poonia
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
तुम हो
Alok Saxena
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
करते है धन्यवाद.....दिलसे
Dr. Alpa H. Amin
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
या इलाही।
Taj Mohammad
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सच
अंजनीत निज्जर
मौत।
Taj Mohammad
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
दिया
Anamika Singh
फूल
Alok Saxena
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
Loading...