Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक

मुक्तक

निर्धन को सहयोग दें,मिटे मान-अभिमान।
झोली भर लो प्रेम से,बढ़ जाएगी शान।।
मिल जाए संतोष धन,दें निर्धन का साथ।
जीवन उनका खिल उठे ,नभ में भरें उड़ान।।
…डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
390 Views
You may also like:
उड़ान
Saraswati Bajpai
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
⭐⭐सादगी बहुत अच्छी लगी तुम्हारी⭐⭐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
मुस्कुराना कहा आसान है
Anamika Singh
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
मकर राशि मे सूर्य का जाना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिला दअ हो अजदिया
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
कुकिंग शुकिंग
Kaur Surinder
एकता
Aditya Raj
✍️इंसाफ मोहब्बत का ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
देश के लिए है अब जीना मरना
Dr Archana Gupta
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
चांद और चांद की पत्नी
Shiva Awasthi
अति पिछड़ों का असली नेता कौन नरेंद्र मोदी या नीतीश...
Nilesh Kumar Soni
कॉल
Seema 'Tu hai na'
समीक्षा सॉनेट संग्रह
Pakhi Jain
डगर-डगर नफ़रत
Dr. Sunita Singh
#प्यार...
Sadhnalmp2001
*गाँधी नाम आते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
|| संत नरसी (नरसिंह) मेहता || 🌷
Pravesh Shinde
■ देश मांगे जवाब
*Author प्रणय प्रभात*
✍️अनचाहे शोरगुल✍️
'अशांत' शेखर
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
हम स्वार्थी मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
मुझको सन्तुष्टि इसी में है
gurudeenverma198
दिल के एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Loading...