Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

मुक्तक::: हर सुबह एक नयी आस लिए होती है

हर सुबह एक नयी आस लिए होती है ।
दोपहर एक अमिट प्यास लिए होती है ।
डूब जाता हूँ किसी याद की तन्हाई में ,
चॉदनी रात जब मधुहास लिए होती है ।।१!!पोस्ट १५!!

—- जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
धर्म को
धर्म को "उन्माद" नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
*आध्यात्मिक साहित्यिक संस्था काव्यधारा, रामपुर (उत्तर प्रदेश
*आध्यात्मिक साहित्यिक संस्था काव्यधारा, रामपुर (उत्तर प्रदेश
Ravi Prakash
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
पूर्वार्थ
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
💐अज्ञात के प्रति-58💐
💐अज्ञात के प्रति-58💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
Sandeep Mishra
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
बात तो कद्र करने की है
बात तो कद्र करने की है
Surinder blackpen
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
3271.*पूर्णिका*
3271.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन का इतना
जीवन का इतना
Dr fauzia Naseem shad
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
Loading...