Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

मुक्तक::: हर सुबह एक नयी आस लिए होती है

हर सुबह एक नयी आस लिए होती है ।
दोपहर एक अमिट प्यास लिए होती है ।
डूब जाता हूँ किसी याद की तन्हाई में ,
चॉदनी रात जब मधुहास लिए होती है ।।१!!पोस्ट १५!!

—- जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
198 Views
You may also like:
■ दैनिक लेखन स्पर्द्धा / मेरे नायक
*प्रणय प्रभात*
गीतायाः पाठ:।
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
*बाबा तीजो है (बाल कविता)*
Ravi Prakash
त्याग
मनोज कर्ण
'पूर्णिमा' (सूर घनाक्षरी)
Godambari Negi
✍️सोया हुवा शेर✍️
'अशांत' शेखर
इंतज़ार
Alok Saxena
"मेरे पापा "
Usha Sharma
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
राह के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नहीं
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 10
Dr. Meenakshi Sharma
जो इश्क मुकम्मल करते हैं
कवि दीपक बवेजा
हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो।
लक्ष्मी सिंह
अरदास
Buddha Prakash
मेरी (अपनी) आवाज़
Shivraj Anand
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
समय ।
Kanchan sarda Malu
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
"कुछ तो गुन-गुना रही हो"☺️
Lohit Tamta
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
- मेरे अपनो ने किया मेरा जीवन हलाहल -
bharat gehlot
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
Loading...