Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक (जान)

मुक्तक (जान)

ये जान जान कर जान गया ,ये जान तो मेरी जान नहीं
जिस जान के खातिर जान है ये, इसमें उस जैसी शान नहीं
जब जान वह मेरी चलती है ,रुक जाते हैं चलने बाले
जिस जगह पर उनकी नजर पड़े ,थम जाते हैं मय के प्याले

मुक्तक (जान)
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
360 Views
You may also like:
नूर का चेहरा सरापा नूर बैठी है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आरज़ू
shabina. Naaz
'मृत्यु'
Godambari Negi
वह माँ नही हो सकती
Anamika Singh
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
मुलाक़ात पहली मगर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़ब्त को जब भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मंथरा के ऋणी....श्री राम
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️दुनियां को यार फिदा कर...
'अशांत' शेखर
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
पक्षी
Sushil chauhan
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
दर्द पन्नों पर उतारा है
Seema 'Tu hai na'
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
भाषा की समस्या
Shekhar Chandra Mitra
■ ग़ज़ल / बिखर गया होगा...।।
प्रणय प्रभात
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
अंतर्राष्ट्रीय अभियंता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
शेर
Rajiv Vishal
तेरी खैर मांगता हूं।
Taj Mohammad
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
मैथिलीमे चारिटा हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...