Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 9, 2016 · 1 min read

*** मुक्तक : क्यूँ आतंकी प्यारे लगते ***

** मुक्तक : क्यूँ आतंकी प्यारे लगते **
क्यूँ आतंकी प्यारे लगते बद्जुबानी नेता को ,
मृत्यु का फरमान सुना दो अब गद्दारी नेता को,
जान गँवाते वीरों का ये नित अपमान करते हैं ,
ठोक पीट जमीं मे गाडो इन गद्दारी नेता को ।
******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

2 Comments · 263 Views
You may also like:
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
मन की मुराद
मनोज कर्ण
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalvir Singh
#15_जून
Ravi Prakash
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
मेरी बेटी
Anamika Singh
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
"अशांत" शेखर
शेर राजा
Buddha Prakash
समय ।
Kanchan sarda Malu
मेरा वजूद
Anamika Singh
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
Loading...