Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक :– आज मेरे ख़त का जवाब आया है !!

मुक्तक :– आज मेरे ख़त का जवाब आया है !
मात्रा भार —
2122 2122 2122

आज मेरे ख़त का जवाब आया है !
महबूब का मुझे आदाब आया है !
बहारें खुशियों की जीवन में आई ,
लिफाफे को महकाता गुलाब आया है !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 749 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
Shweta Soni
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
Vivek Ahuja
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
"तू रंगरेज बड़ा मनमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
तरस रहा हर काश्तकार
तरस रहा हर काश्तकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
gurudeenverma198
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
घोसी                      क्या कह  रहा है
घोसी क्या कह रहा है
Rajan Singh
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
Time
Time
Aisha Mohan
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
वृक्ष पुकार
वृक्ष पुकार
संजय कुमार संजू
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
विकृतियों की गंध
विकृतियों की गंध
Kaushal Kishor Bhatt
3228.*पूर्णिका*
3228.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...