Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2023 · 1 min read

मिस्टर जी आजाद

एक निबन्ध, निबद्ध , एन अनटोल्ड स्टोरी,
बेरागी, निर्मोही और अवर्णीय,
मिस्टर जी आजाद।

अनिरुद्ध बहता बेखबर एक प्रपात,
एक रहस्यमयी सूरत,मूर्धन्य एक नाद,
एक नारा और एक क्रांति,
मिस्टर जी आजाद।

हवा का एक झौंका, एक तुफ़ान,
एक तिलिस्मी चिराग, एक कायनात,
उन्मुक्त और स्वच्छंद एक विहंग,
मिस्टर जी आजाद।

बेदाग,बेकर्ज, बेबाक,
पारदर्शी और स्वच्छ एक आईना,
एक बुलन्दी और एक निर्मल आकाश,
मिस्टर जी आजाद।

स्वावलंबी, स्वाभिमानी एक हस्ती,
कम भोजन और कम दौलत,
निष्कामी और कर्त्तव्यनिष्ठ ईमानदार,
मिस्टर जी आजाद।

खुद के दम पर जिंदा एक अस्तित्व,
बावफ़ा एक प्रेमी,
शहंशाह मुमताज का,
एक वतनफरोश और चिरागे-जिंदगी,
मिस्टर जी आजाद।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
Satish Srijan
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
Rashmi Sanjay
"शिक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रचो महोत्सव
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
Gestures Of Love
Gestures Of Love
Vedha Singh
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
किसी को फर्क भी नही पड़ता
किसी को फर्क भी नही पड़ता
पूर्वार्थ
चूहा भी इसलिए मरता है
चूहा भी इसलिए मरता है
शेखर सिंह
2536.पूर्णिका
2536.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
👍👍
👍👍
*प्रणय प्रभात*
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
Lokesh Sharma
रम्भा की ‘मी टू’
रम्भा की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...