Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 2 min read

मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी

आलेख :- एक पंक्ति जो मशहूर हो गयी :-
– राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’

उर्दू शायरी में ऐसे बहुत से कमाल के शेर हैं जिनका केवल दूसरा मिसरा (line) इतना मशहूर हुआ, कि लोग पहले मिसरे (line) को तो भूल ही गये।
ऐसे ही कुछ , चन्द उदाहरण यहाँ पेश हैं:

1- “ऐ सनम वस्ल की तदबीरों से क्या होता है??
वही होता है जो मंज़ूर-ए-ख़ुदा होता है।
शायर – मिर्ज़ा रज़ा बर्क़

2- “भाँप ही लेंगे इशारा सर-ए-महफ़िल जो किया,
ताड़ने वाले क़यामत की नज़र रखते हैं।”
शायर – माधव राम जौहर

3- “चल साथ कि हसरत दिल-ए-मरहूम से निकले,
आशिक़ का जनाज़ा है, ज़रा धूम से निकले।”
शायर – मिर्ज़ा मोहम्मद अली फ़िदवी

4- “दिल के फफोले जल उठे सीने के दाग़ से,
इस घर को आग लग गई, घर के चराग़ से।”
शायर – महताब राय ताबां

5- “ईद का दिन है, गले आज तो मिल ले ज़ालिम,
रस्म-ए-दुनिया भी है,मौक़ा भी है, दस्तूर भी है।”
शायर*- क़मर बदायूंनी*

6- “क़ैस जंगल में अकेला ही मुझे जाने दो,
ख़ूब गुज़रेगी, जो मिल बैठेंगे दीवाने दो।”
शायर*- मियाँ दाद ख़ां सय्याह*

‘7- मीर’ अमदन भी कोई मरता है?
जान है तो जहान है प्यारे।”
शायर – मीर तक़ी मीर

8-“शब को मय ख़ूब पी, सुबह को तौबा कर ली,
रिंद के रिंद रहे हाथ से जन्नत न गई।”
शायर – जलील मानिकपुरी

9-“शहर में अपने ये लैला ने मुनादी कर दी,
कोई पत्थर से न मारे मेंरे दीवाने को।”
शायर – शैख़ तुराब अली क़लंदर काकोरवी

10- जब से आया है मौसम चुनाव का।
कुत्ते मेरी गली के शेर हो गये।।
B शायर- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’

11- “ये जब्र भी देखा है तारीख़ की नज़रों ने,
लम्हों ने ख़ता की थी, सदियों ने सज़ा पाई।”
शायर – मुज़फ़्फ़र रज़्मी
***

*पेशकश :- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
संपादक – ‘आकांक्षा’ पत्रिका
टीकमगढ़ (मप्र)*
मोबाइल-9893520965

1 Like · 64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
पूर्वार्थ
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
किसी की सेवा या सहयोग
किसी की सेवा या सहयोग
*Author प्रणय प्रभात*
दिल
दिल
Er. Sanjay Shrivastava
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
जब आसमान पर बादल हों,
जब आसमान पर बादल हों,
Shweta Soni
2959.*पूर्णिका*
2959.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
Fragrance of memories
Fragrance of memories
Bidyadhar Mantry
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
"अन्तरिक्ष यान"
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
Ravi Prakash
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
Amit Pandey
"माँ का आँचल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...