Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2022 · 1 min read

इश्क में ज़िंदगी

ढूंढ लो चाहें कितनी गहराई ।
इश्क में ज़िन्दगी नहीं मिलती ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
23 Likes · 653 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
3467🌷 *पूर्णिका* 🌷
3467🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
एक संदेश युवाओं के लिए
एक संदेश युवाओं के लिए
Sunil Maheshwari
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ
माँ
Vijay kumar Pandey
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"मैं मजाक हूँ "
भरत कुमार सोलंकी
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
यकीन नहीं होता
यकीन नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
मानव के बस में नहीं, पतझड़  या  मधुमास ।
मानव के बस में नहीं, पतझड़ या मधुमास ।
sushil sarna
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"रुख़सत"
Dr. Kishan tandon kranti
■ शर्म भी कर लो।
■ शर्म भी कर लो।
*प्रणय प्रभात*
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
Mohan Pandey
बेवफ़ा इश्क़
बेवफ़ा इश्क़
Madhuyanka Raj
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
होली है ....
होली है ....
Kshma Urmila
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
नेताम आर सी
आज तू नहीं मेरे साथ
आज तू नहीं मेरे साथ
हिमांशु Kulshrestha
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
ओनिका सेतिया 'अनु '
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
Jogendar singh
Loading...