Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

मित्रता

जिनके आने से भरे, मन में खूब उमंग।
हर पल देते साथ वो, छोड़े कभी न संग।।१

सूनेपन की राह में, दुःख हरती मशाल।
हर पल चाहे यही, मित्र रहें खुशहाल।।२

कृष्ण सुदामा की तरह,दुनिया रखें याद।
रखें मित्रता में सदा, मीठा सा संवाद।।३

मित्रता नहीं देखती, ऊंच नीच का भाव।
मित्रता सदा चाहती, प्रेम भरी इक छांव।।४

आओ मिलकर हम करें, मित्रों से संवाद
साथ रहे सुख दुःख में, कभी करें न विवाद।।५

Language: Hindi
2 Likes · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
घूँघट (घनाक्षरी)
घूँघट (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
Naushaba Suriya
बारिश और उनकी यादें...
बारिश और उनकी यादें...
Falendra Sahu
💐प्रेम कौतुक-280💐
💐प्रेम कौतुक-280💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
मित्रता
मित्रता
Mahendra singh kiroula
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
"ऐनक"
Dr. Kishan tandon kranti
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
मुझे धरा पर न आने देना
मुझे धरा पर न आने देना
Gouri tiwari
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU
" नई चढ़ाई चढ़ना है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
शेखर सिंह
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
Shashi kala vyas
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
Loading...