Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-

मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-मज़ाक से लेकर संकट में साथ देने की जिम्मेदारी निभाई जाती है। यहाँ झूठे वादे नहीं बल्कि सच्ची कोशिशें की जाती हैं। अक़्सर हम किसी प्रगाड़ परिचित को अपना मित्र समझने की भूल कर बैठते हैं। यह भी सत्य है कि हमारी मित्रता को लोग हमारी कमज़ोरी समझ बैठते हैं।
डॉ तबस्सुम जहां

1 Like · 154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रणय निवेदन
प्रणय निवेदन
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
*ऋषि (बाल कविता)*
*ऋषि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
#आज_का_सबक़
#आज_का_सबक़
*Author प्रणय प्रभात*
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
3036.*पूर्णिका*
3036.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
खोखली बातें
खोखली बातें
Dr. Narendra Valmiki
हश्र का वह मंज़र
हश्र का वह मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
इस धरती पर
इस धरती पर
surenderpal vaidya
बुद्ध को अपने याद करो ।
बुद्ध को अपने याद करो ।
Buddha Prakash
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
कृष्णकांत गुर्जर
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
शेखर सिंह
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल "हृद
Radhakishan R. Mundhra
जूते और लोग..,
जूते और लोग..,
Vishal babu (vishu)
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
Sapna Arora
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
"मुस्कुराते चलो"
Dr. Kishan tandon kranti
आया जो नूर हुस्न पे
आया जो नूर हुस्न पे
हिमांशु Kulshrestha
नदी किनारे
नदी किनारे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उस रब की इबादत का
उस रब की इबादत का
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी
गर्मी
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
जिंदगी रूठ गयी
जिंदगी रूठ गयी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
Jogendar singh
Loading...