Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2021 · 2 min read

“मित्रता में धृष्टता कैसी “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
===============

डिजिटल मित्रता में हम तस्वीर को निहारकर उनके व्यक्तित्व का आंकलन करना दुर्लभ हो जाता है ! व्यक्तिगत प्रोफ़ाइलों में प्रायः -प्रायः अपर्याप्त सूचना हमें चकचोंध कर देती हैं ! रहते कहीं ओर हैं ठिकाना कहीं ओर का रहता है !
शिक्षा ,महाविध्यालय और विश्वविध्यालय का नाम लिखना भूलते नहीं ! पर अपनी उम्र को दिखाना भूल जाते हैं ! इन महारथियों की संख्या कम नहीं है ! इनकी पहचान हम अनेकों विधाओं से करते हैं ! वैसे व्यक्तिगत पहचान शायद ही हो पायें !

उनकी लिखाबट,समालोचना ,टीका -टिप्पणी ,सकारात्मक विचार ,शिष्टता,शालीनता और यथा -योग्य प्रतिउत्तर को जब वे लिखेंगे तो उनकी पहचान हो जाएगी ! यह पद्धति प्राचीन कालों से चली आ रहीं हैं !
पत्र -लेखन कला के माध्यम से हम एक दूसरे के व्यक्तित्व को पहचान जाते थे ! साहित्य सदा दर्पण माना गया है ! सर्विस सेलेक्सन बोर्ड में मनोव्यज्ञानिक कैंडिडैट के मनोव्यज्ञानिक उत्तरपुस्तिका को पढ़कर ही आंदजा लगा लेते हैं कि किनके हाथों में सेना का नेतृत्व सौंपना है !

आज भी डिजिटल मित्रता में हम इसी विधा के प्रयोग से अपने मित्रों का सही चुनाव कर सकते हैं ! कुछ लोगने तो धृष्टता को अपना अस्त्र बना रखा है ! अभी -अभी मित्र बने ,कुछ बातें हुयीं नहीं ,हम एक दूसरे को समझ भी ना पाये और निकाल पड़े अशिष्टता की ओर !

किसी ने प्यार भरा अभिनंदन पत्र लिखा और हमने अपना अंगूठा दिखा दिया ! एक क्षण हम मान भी लें कि आप व्यस्त हैं फिर आप लगातार
मेसेंजर पर अनाप- सनप उधर के पोस्ट भेज रहे हैं ! आखिर दूसरों के पसंद को जाने बेगैर दनादन पोस्ट भेजे जा रहें हैं ! आखिर “मित्रता में धृष्टता कैसी “? हमें दिल से जुड़ना होगा तभी हमारी मित्रता अमर रहेगी !

==================

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हैल्थ क्लीनिक
एस0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
#क्षणिका-
#क्षणिका-
*प्रणय प्रभात*
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
Swami Ganganiya
सत्य बोलना,
सत्य बोलना,
Buddha Prakash
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
........,!
........,!
शेखर सिंह
इक अदा मुझको दिखाया तो करो।
इक अदा मुझको दिखाया तो करो।
सत्य कुमार प्रेमी
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
"आज की रात "
Pushpraj Anant
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
Yogini kajol Pathak
-मां सर्व है
-मां सर्व है
Seema gupta,Alwar
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
क़ाफ़िया तुकांत -आर
क़ाफ़िया तुकांत -आर
Yogmaya Sharma
"तोड़िए हद की दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...