Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2017 · 1 min read

मित्रता का बीज

मित्रता का बीज
दो क्यारियों में
एक ही वेग से उगता है,
और एक ही
वसंत में खिलता है।
मित्र में कौन छोटा ?
कौन बड़ा ?
यह प्रश् न?
अर्थशून्य रहता है।
-लक्ष्मी सिंह

705 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
ग़ज़ल (जब भी मेरे पास वो आया करता था..)
ग़ज़ल (जब भी मेरे पास वो आया करता था..)
डॉक्टर रागिनी
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3045.*पूर्णिका*
3045.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
हम सनातन वाले हैं
हम सनातन वाले हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
■ आज का विचार।।
■ आज का विचार।।
*प्रणय प्रभात*
उम्मीद का दामन।
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
"खाली हाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
Dr fauzia Naseem shad
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
शेखर सिंह
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गिद्ध करते हैं सिद्ध
गिद्ध करते हैं सिद्ध
Anil Kumar Mishra
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
"UG की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अफ़सोस
अफ़सोस
Shekhar Chandra Mitra
बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय।
बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दीप शिखा सी जले जिंदगी
दीप शिखा सी जले जिंदगी
Suryakant Dwivedi
Loading...