Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2023 · 1 min read

” मिट्टी के बर्तन “

” मिट्टी के बर्तन ”

मिट्टी के बर्तन से छू कर विचार,
हम सभी को सिखाते हैं ये बातें खास।
प्राकृतिकता की महक, सरलता का जादू,
मिट्टी के बर्तन से भरा है ये आकाश।।

” पुष्पराज फूलदास अनंत “

4 Likes · 154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आईने में ...
आईने में ...
Manju Singh
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
शेखर सिंह
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
Kshma Urmila
■ ज़रूरत...
■ ज़रूरत...
*Author प्रणय प्रभात*
"ख्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
सारी व्यंजन-पिटारी धरी रह गई (हिंदी गजल/गीतिका)
सारी व्यंजन-पिटारी धरी रह गई (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
Ashish shukla
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3092.*पूर्णिका*
3092.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहां गए तुम
कहां गए तुम
Satish Srijan
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
पुण्य आत्मा
पुण्य आत्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
Loading...