Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,

मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मकबरे तो देखो शाही का फ़कीर का।
मरने बाद बैठी है मुमताज ताज में,
सौ ईंट में बस बन गया चौरा कबीर का।।

……will continue tomorrow

Good night 🌉🌃🌃🌃🌃🌃🌃🌃🌃🌃

1 Like · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
Shakil Alam
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
Sonam Puneet Dubey
*लोकनागरी लिपि के प्रयोगकर्ता श्री सुरेश राम भाई*
*लोकनागरी लिपि के प्रयोगकर्ता श्री सुरेश राम भाई*
Ravi Prakash
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
gurudeenverma198
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
Jogendar singh
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
पूर्वार्थ
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
मेरे कृष्ण की माय आपर
मेरे कृष्ण की माय आपर
Neeraj Mishra " नीर "
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
2723.*पूर्णिका*
2723.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहना क्या
कहना क्या
Awadhesh Singh
बेशक आजमा रही आज तू मुझको,मेरी तकदीर
बेशक आजमा रही आज तू मुझको,मेरी तकदीर
Vaishaligoel
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
बाबुल
बाबुल
Neeraj Agarwal
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
Neelam Sharma
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
Madhuyanka Raj
उनको घरों में भी सीलन आती है,
उनको घरों में भी सीलन आती है,
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
Lokesh Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते  कहीं वे और है
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते कहीं वे और है
DrLakshman Jha Parimal
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
Loading...