Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

माँ वो है जिसे

माँ वो है जिसे

सब मालूम होता है….

जिस की दुआ औ से जिंदगी का हर

काम आसान होता है🙌🤲

कौन सा दिन है

जो उस का नहीं होता।

कहना ही क्या
उसका

जिसके के कदमो के नीचे… .

जन्नत रख दी हो खुद खुदा ने…🌺🌺🌺

हैप्पी मदर्स डे ❤️

Language: Hindi
339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
नए वर्ष की इस पावन बेला में
नए वर्ष की इस पावन बेला में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोई नयनों का शिकार उसके
कोई नयनों का शिकार उसके
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"" *वाङमयं तप उच्यते* '"
सुनीलानंद महंत
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
Anil Mishra Prahari
एक स्वच्छ सच्चे अच्छे मन में ही
एक स्वच्छ सच्चे अच्छे मन में ही
Ranjeet kumar patre
जिसने आपके साथ बुरा किया
जिसने आपके साथ बुरा किया
पूर्वार्थ
गंगा से है प्रेमभाव गर
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD CHAUHAN
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल(ज़िंदगी लगती ग़ज़ल सी प्यार में)
ग़ज़ल(ज़िंदगी लगती ग़ज़ल सी प्यार में)
डॉक्टर रागिनी
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
Indu Singh
"मुकाम"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति
प्रकृति
Mangilal 713
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
हर जमीं का आसमां होता है।
हर जमीं का आसमां होता है।
Taj Mohammad
#मानो_या_न_मानो
#मानो_या_न_मानो
*प्रणय प्रभात*
हुआ पिया का आगमन
हुआ पिया का आगमन
लक्ष्मी सिंह
*दर्शन शुल्क*
*दर्शन शुल्क*
Dhirendra Singh
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
पर्वत और गिलहरी...
पर्वत और गिलहरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
यादों की तस्वीर
यादों की तस्वीर
Dipak Kumar "Girja"
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
Loading...