Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2024 · 1 min read

*माहेश्वर तिवारी जी: शत-शत नमन (कुंडलिया)*

माहेश्वर तिवारी जी: शत-शत नमन (कुंडलिया)
🍃🍃🙏🙏🙏🙏🙏🍃🍃
गाते थे नवगीत ज्यों, पक्षी करे विहार
माहेश्वर जी रच गए, मृदु रचना-संसार
मृदु रचना-संसार, मुरादाबाद बसाया
पीतल का था लोक, स्वर्ण-जैसा चमकाया
कहते रवि कविराय, युगों में ऋषि यों आते
भीतर से संगीत, फूटता जो वह गाते
————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Milo kbhi fursat se,
Milo kbhi fursat se,
Sakshi Tripathi
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh
ऐ मोनाल तूॅ आ
ऐ मोनाल तूॅ आ
Mohan Pandey
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जहाँ में किसी का सहारा न था
जहाँ में किसी का सहारा न था
Anis Shah
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये ज़िंदगी भी गरीबों को सताती है,
ये ज़िंदगी भी गरीबों को सताती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तन्हाई
तन्हाई
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
*मिलते जीवन में गुरु, सच्चे तो उद्धार【कुंडलिया】*
*मिलते जीवन में गुरु, सच्चे तो उद्धार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
देश भक्ति का ढोंग
देश भक्ति का ढोंग
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*प्रणय प्रभात*
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
कौन याद दिलाएगा शक्ति
कौन याद दिलाएगा शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
"कविता क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
Ram Krishan Rastogi
ईंट खोदकर नींव की, गिरा दिया निज गेह ।
ईंट खोदकर नींव की, गिरा दिया निज गेह ।
Arvind trivedi
Loading...