Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Oct 2023 · 1 min read

मासूमियत की हत्या से आहत

हम हमास से आहत है, पर इजराइल से राहत है।
केवल मुस्लिम है खतरा,आपका इसपर क्या मत है।।

मूल्ला मौलवी जहर परोसे, मस्जिद और मदर्शो से।
घर घर में हथियार बनाते, आतंक मचा रहे वर्षो से।।

दुनिया में बस यही रहेंगे, इनका कुरान ये कहता है।
इनके बस इसी सोच से, जग आतंक को सहता है।।

इनको जो मारे जालिम है, न माने तो काफिर है।
सोच से है जाहिल ये सब, हिंसा झूठ में माहिर है।।

इनका इलाज जरूरी है, मानवता की मजबूरी है।
तिरस्कार या बहिष्कार करना नितांत जरूरी है।।

Language: Hindi
1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-398💐
💐प्रेम कौतुक-398💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रुलाई
रुलाई
Bodhisatva kastooriya
फूल खिलते जा रहे
फूल खिलते जा रहे
surenderpal vaidya
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
Man has only one other option in their life....
Man has only one other option in their life....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"वक्त" भी बड़े ही कमाल
नेताम आर सी
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*हिंदी दिवस*
*हिंदी दिवस*
Atul Mishra
दोहे
दोहे
दुष्यन्त 'बाबा'
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
Ravi singh bharati
2459.पूर्णिका
2459.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
Ravi Prakash
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
Rj Anand Prajapati
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
Loading...