Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

प्राणवल्लभा 2

तेरी बनावट बेमिशाल है,
तेरे लबो का रंग अभी लाल है।
रश्क करते मर जायेंगे लोग,
कि ये किस कारीगर का कमाल है ।।

हम करते है इश्क़ तुझसे,
तेरी आँखों मे इक़ जहाँन है ।
कहर ढा दो तुम जिसपे चाहो उसपे,
क्योंकि तेरे गेसुओं का रंग धमाल है ।।

ज़बी पर तेरे नूर की बरसात है,
तेरी आँखों मे रंग पर्याप्त है ।
देख के सब फिदा हो जाएं,
तेरे जिस्म का ये सारा कमाल है ।।

©अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’

32 Likes · 5 Comments · 603 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
कलम व्याध को बेच चुके हो न्याय भला लिक्खोगे कैसे?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
दिल जीतने की कोशिश
दिल जीतने की कोशिश
Surinder blackpen
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
कफन
कफन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*रंगों का ज्ञान*
*रंगों का ज्ञान*
Dushyant Kumar
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
Ravi Prakash
कहने को बाकी क्या रह गया
कहने को बाकी क्या रह गया
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
A GIRL WITH BEAUTY
A GIRL WITH BEAUTY
SURYA PRAKASH SHARMA
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
2811. *पूर्णिका*
2811. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
रही सोच जिसकी
रही सोच जिसकी
Dr fauzia Naseem shad
मेरे दिल ओ जां में समाते जाते
मेरे दिल ओ जां में समाते जाते
Monika Arora
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
प्रेम पर बलिहारी
प्रेम पर बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
छल
छल
गौरव बाबा
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
मेरी कलम
मेरी कलम
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
Loading...