Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मालती सवैया

*मुक्तक*
संग भले दिखते जन हैं मन में पर मेल मिलाप नहीं है।
वे विष हाथ लिये कहते मन में अपने कोई’ पाप नहीं है।
घात सदा करते छुपके पहचान इन्हें बगुले सम हैं ये।
आज मनुष्य स्वभाव यही यह रंच भी’ व्यर्थ प्रलाप नहीं है।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

1 Comment · 180 Views
You may also like:
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
✍️✍️याद✍️✍️
"अशांत" शेखर
मेरे पापा।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
# स्त्रियां ...
Chinta netam " मन "
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
पिता
Saraswati Bajpai
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
दिया
Anamika Singh
भारत बनाम (VS) पाकिस्तान
Dr.sima
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
"Happy National Brother's Day"
Lohit Tamta
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अपराधी कौन
Manu Vashistha
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...