Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 2 min read

मार्केटिंग फंडा

मार्केटिंग फंडा

वैसे तो मुझे होटल में खाना पसंद नहीं है पर बच्चों की इच्छा का ध्यान रखते हुए हम अपने परिवार के सभी सदस्यों के जन्म दिवस पर होटल खाना खाने चले जाते हैं। संयोग एेसा है कि हम चारों के जन्म दिन में भी तीन-चार माह का अंतराल है। सो हर तीसरे-चौथे महीने ही जाना होता है।
अभी पिछले सप्ताह श्रीमती जी के जन्म दिन पर अपने वही चिरपरिचित होटल में जाना हुआ। इस बार वहाँ कुछ ज्यादा ही चहल-पहल दिखा। जब हमारे आर्डर का पूरा खाना आ गया तो एक बहुत ही स्मार्ट-सा लड़का, जो गले में एक लेटेस्ट मॉडल का बहुत ही महंगा कैमरा लटकाए हुए था, अभिवादन करके बोला- “सर अब फोटो सेशन हो जाए।”
चौंक पड़े हम। आश्चर्य के साथ गुस्सा भी आया। पूछा- “क्यों, किसने कहा तुम्हें फोटो सेशन के लिए।”
वह बड़े ही प्यार से बोला :- “सर जी प्लीज, आप नाराज मत होइए। मैं इस होटल का फोटोग्राफर हूँ। यहाँ आने वाले ग्राहकों की फोटो उनकी इच्छानुसार ही खींचकर उन्हें ई-मेल या व्हाट्सप करता हूँ। उसके बाद उनके सामने ही फोटो डिलीट कर देता हूँ। इसे ग्राहक अपनी इच्छानुसार फेसबुक, इंस्टाग्राम या व्हाट्सप पर शेयर करते हैं। सर जी फोटो खींचना ही मेरी ड्यूटी है और इसके लिए ग्राहकों से कोई एक्स्ट्रा चार्ज नहीं लिया जाता है। मुझे होटल से मासिक वेतन मिलता है।”
तब तक होटल का मैनेजर भी आ गया जो मुझे पहले से ही जानता है। हाथ जोड़ कर बोला- “सर जी, ये सर्विस हमने पिछले महीने ही शुरु की है। होटल में ये चहल-पहल उसी का ही परिणाम है। डेढ़ महीने में ही हमारी बिक्री दुगुनी हो चुकी है।”
हम आश्वस्त हुए- “ये तो अच्छी पहल है मैनेजर साहब। चलिए फिर हमारा भी फोटो सेशन हो जाए।”
मैनेजर बोला :- “जरूर-जरूर।”
मौके का फायदा उठाते हुए हमने भी कुछ फोटो खिंचवा लिए।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छ.ग.

Language: Hindi
89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2674.*पूर्णिका*
2674.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
Shweta Soni
ज़िंदगी
ज़िंदगी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
#एक_विचार
#एक_विचार
*Author प्रणय प्रभात*
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
gurudeenverma198
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कोशिश बहुत करता हूं कि दर्द ना छलके
कोशिश बहुत करता हूं कि दर्द ना छलके
Er. Sanjay Shrivastava
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
Ravi Prakash
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
हालात और मुकद्दर का
हालात और मुकद्दर का
Dr fauzia Naseem shad
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
Jogendar singh
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
Rajendra Kushwaha
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
21)”होली पर्व”
21)”होली पर्व”
Sapna Arora
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
*सीता नवमी*
*सीता नवमी*
Shashi kala vyas
⭕ !! आस्था !!⭕
⭕ !! आस्था !!⭕
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...