Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

जिंदा होने का सबूत

जिंदा होने का सबूत
—————
“नमस्ते मैनेजर साहब।”
“नमस्ते अंकल जी। कैसे हैं आप ?”
“बढ़िया हूँ बेटा।”
“कैसे आना हुआ आज अंकल जी ?”
“बेटा, जीवित होने का प्रमाण देने आया हूँ।”
“ठीक है अंकल जी। लाइए जीवन प्रमाण-पत्र दे दीजिए।”
“प्रमाण-पत्र ? हाथ कंगन को आरसी क्या और पढ़े-लिखे को फारसी क्या ? मैं खुद खड़ा हूँ आपके सामने। इससे बड़ा और प्रमाण क्या हो सकता है ?”
“देखिए अंकल जी, ऑफिसियल कामकाज ऐसे नहीं होते. पेंशन पाने के लिए आपको जीवन प्रमाण-पत्र किसी भी एक बड़े अधिकारी से सत्यापित कराके जमा कराना पड़ेगा।”
“क्यों भई ? पिछले 9 साल से मैं आपके बैंक में लगातार आ रहा हूँ। आप ही क्यों, इस बैंक के लगभग सभी लोग मुझे पहचानते हैं। आप स्वयं एक बड़े अधिकारी हैं। फिर…”
“देखिए अंकल जी, आप हम लोगों के पर्सनल रिलेशनशिप को ऑफिसियल रिलेशनशिप से मत जोड़िए.”
“फिर क्या करूँ मैं ? आप ही बताइए.”
“आप अपना जीवन प्रमाण-पत्र किसी उच्च अधिकारी या जन प्रतिनिधि से सत्यापित करवा कर जमा कर दीजिए।”
वे सोचने लगे कि यह कैसी विडम्बना है, जिस बैंक के लगभग सभी अधिकारी-कर्मचारी उसे पिछले नौ साल से उनको जानते और मानते हैं, उनके सामने साक्षात खड़ा होना कोई मायने नहीं रखता. उसे जीवित होने का प्रूफ देने के लिए प्रमाण-पत्र देने पड़ेंगे।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
दुष्यन्त 'बाबा'
An Analysis of All Discovery & Development
An Analysis of All Discovery & Development
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
"क्या बताऊँ दोस्त"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-97💐
💐प्रेम कौतुक-97💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चिंता अस्थाई है
चिंता अस्थाई है
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
एकांत
एकांत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
Charu Mitra
हनुमानजी
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
बदला सा व्यवहार
बदला सा व्यवहार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
3058.*पूर्णिका*
3058.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शोषण
शोषण
साहिल
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
Smriti Singh
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कलियों  से बनते फूल हैँ
कलियों से बनते फूल हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#क़तआ
#क़तआ
*Author प्रणय प्रभात*
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
शेखर सिंह
Loading...