Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी

माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी !
अब रोईथे करम का अपने खुब देइथे गारी !!

सुधि आबाथी लेहे कधइया विद्यालय पहुचउते !
रोटी, पूड़ी, अउर परेठा कपड़ा, लत्ता धोउते !!

बात बात मा गुस्सा होइके पोथी पत्रा जारी !
माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी !!

नीक सिखाये सबदिन हमही अपन बिपत बताये !
फटी चिटी धोती तै पहिने हीरो हमही बनाए !!

फुरिन कहेतै पढ़ि ले लाला नही बगबे लेहे अधारी !
माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी !!

बेउहर बाबा के लड़िकन के सउज किहन हम सबदिन !
गुट्का पाउच बीड़ी दागी गामव बाले बरजिन !!

देख रवइया हमरव भइया खूब रोबय महतारी !!
माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी !!

पढ़य लिखय का मन ना लागय खेली गुल्ली डंडा !
नेबुआ, बीही, जामुन टोरी बागी लइ के झंडा !!

आन के माथे हमहू दादा पटक पटक के मारी !
माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी !!

फैल होइगैन दशमी मा ही भागिके शहर मा आयन !
बात का तोरे सुधि कइके हम रोय रोय पछितायन !!

पढ़ें लिखे जो होइत अम्मा होती सरहज सारी !
माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी !!

फौज, पुलिस कुछ नेता होइगे हितुआ आपन साथी !
फिरी लोकइया कस घोड़ी हम भुई से बादल चाटी !!

कवि जुगनू जी एइन बनाइन मिसिरा दुबे तिवारी !
माफ किहे तै हमही अम्मा नहीं बनन अधिकारी !!

Language: Hindi
555 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
पूर्वार्थ
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
“ कौन सुनेगा ?”
“ कौन सुनेगा ?”
DrLakshman Jha Parimal
■ बन्द करो पाखण्ड...!!
■ बन्द करो पाखण्ड...!!
*Author प्रणय प्रभात*
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
कवि रमेशराज
जो दिल के पास होता है (हिंदी गजल/गीतिका )
जो दिल के पास होता है (हिंदी गजल/गीतिका )
Ravi Prakash
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
# नमस्कार .....
# नमस्कार .....
Chinta netam " मन "
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एहसासों से हो जिंदा
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-197💐
💐प्रेम कौतुक-197💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
'Love is supreme'
'Love is supreme'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
Umender kumar
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
रुपेश कुमार
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
LOVE-LORN !
LOVE-LORN !
Ahtesham Ahmad
गुमनाम शायरी
गुमनाम शायरी
Shekhar Chandra Mitra
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हनुमानजी
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आत्मनिर्भरता
आत्मनिर्भरता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...