Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

माना कि दुनिया बहुत बुरी है

माना कि दुनिया बहुत बुरी है
तेरे लायक बिल्कुल नहीं है
फिर भी जिए जा उसके लिए
जो तुझे देखकर जी रही है…
(१)
अपने सपने-अपनी इच्छाएं
वह सब कुछ तुझपे वार चुकी
तेरा दुःख ही उसका दुःख है
तेरी ख़ुशी ही उसकी ख़ुशी है…
(२)
तुझे इतनी देर कहां हो गई
तू अब तक क्यों घर नहीं लौटा
वह दरवाजे पर बैठी हुई
एकटक तेरी राह तकती है…
(३)
वह बिना कुछ खाए-पीए ही
दूर-दूर तक पैदल चलकर
मंदिर-मंदिर तीरथ-तीरथ
तेरे लिए दुआ करती है…
(४)
कोई ग़लती करने से पहले
सोच लेना तू उसके बारे में
उस माता पर क्या बीतेगी
तुझपे जिसकी आश टिकी है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#mother #lovers #beloved #फांसी
#girlfriend #Youth #suicide #ज़हर
#motivation #inspiration #माई
#Students #विद्यार्थी #नौजवान #अम्मा
#आत्महत्या #खुदकुशी #विद्रोही #माता
#इंकलाब #क्रांति #संघर्ष #धैर्य #पत्नी
#सामना #प्रेरणा #हौसला #मां #प्रेमिका

Language: Hindi
Tag: गीत
360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चलना था साथ
चलना था साथ
Dr fauzia Naseem shad
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक "करीमा" का ब्रज भाषा में अनुवाद*
Ravi Prakash
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
दिवाली व होली में वार्तालाप
दिवाली व होली में वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
Jyoti Khari
मैं तो महज जीवन हूँ
मैं तो महज जीवन हूँ
VINOD CHAUHAN
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
गीत प्रतियोगिता के लिए
गीत प्रतियोगिता के लिए
Manisha joshi mani
"ये सुना है कि दरारों में झांकता है बहुत।
*Author प्रणय प्रभात*
Sometimes you shut up not
Sometimes you shut up not
Vandana maurya
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
आंखो ने क्या नहीं देखा ...🙏
आंखो ने क्या नहीं देखा ...🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
कोरा संदेश
कोरा संदेश
Manisha Manjari
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
मत फेर मुँह
मत फेर मुँह
Dr. Kishan tandon kranti
गुलदानों में आजकल,
गुलदानों में आजकल,
sushil sarna
Loading...