Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2023 · 1 min read

**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****

**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
************************************

माटी में है जन्म लिया माटी में ही मिल जाना।
पलभर में है बुझ जाना पलभर में खिल जाना।

मानव जन तो धरती पर जैसे हो खेल-खिलौना,
जीवन तेरा ऐसे बन्दे जैसे भू पर बिछा बिछोना,
माटी में ही खेल – खेल कर माटी में घुल जाना।
माटी में है जन्म लिया माटी में ही मिल जाना।

रेत का खाली ढेर है बंदा झट में ही ढह जाए,
सागर की लहरों के संग पल में वो बह जाए,
किस का तू है मान करे यहीं पर ही रह जाना।
माटी में है जन्म लिया माटी में ही मिल जाना।

मृत्तिका बन तन पर लिपटे पल में मार गिराए,
मृण की कीमत धूल बने राह में झाड़ बिछाए,
मन की पीड़ा कोई न समझे मूर्ख ना सियाना।
माटी में है जन्म लिया माटी में ही मिल जाना।

मनसीरत मिट्टी का पुतला मिट्टी में शूल समाए,
मिट्टी से कभी दूर न भागे सभी को धूल चटाए,
मिट्टी से मिट्टी में मिल कर मिट्टी में घुल जाना।
माटी में है जन्म लिया माटी में ही मिल जाना।

माटी में है जन्म लिया माटी में ही मिल जाना।
पलभर में है बुझ जाना पलभर में खिल जाना।
*************************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम
राम
Suraj Mehra
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
Dr MusafiR BaithA
या तो सच उसको बता दो
या तो सच उसको बता दो
gurudeenverma198
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी के फ़लसफ़े
ज़िंदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
Kanchan Alok Malu
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
DrLakshman Jha Parimal
3150.*पूर्णिका*
3150.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।
शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।
Pratibha Pandey
खुद को इतना हंसाया है ना कि
खुद को इतना हंसाया है ना कि
Rekha khichi
संगीत
संगीत
Neeraj Agarwal
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चलो, इतना तो पता चला कि
चलो, इतना तो पता चला कि "देशी कुबेर काला धन बांटते हैं। वो भ
*Author प्रणय प्रभात*
वो काल है - कपाल है,
वो काल है - कपाल है,
manjula chauhan
दशावतार
दशावतार
Shashi kala vyas
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
Sushila joshi
"कइसन जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुरमई शाम का उजाला है
सुरमई शाम का उजाला है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
Loading...