Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

मात्र क्षणिक आनन्द को,

मात्र क्षणिक आनन्द को,
हम चुनते इक पात्र
प्रेम किसी के संग यूँ,
होता है भ्रम मात्र
—महावीर उत्तरांचली

1 Like · 82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खेल करे पैसा मिले,
खेल करे पैसा मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
मृत्यु संबंध की
मृत्यु संबंध की
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
बलराम विवाह
बलराम विवाह
Rekha Drolia
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
कहां छुपाऊं तुम्हें
कहां छुपाऊं तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोस्त के शादी
दोस्त के शादी
Shekhar Chandra Mitra
विचार और भाव-2
विचार और भाव-2
कवि रमेशराज
श्रेष्ठ भावना
श्रेष्ठ भावना
Raju Gajbhiye
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
💐अज्ञात के प्रति-106💐
💐अज्ञात के प्रति-106💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
*Author प्रणय प्रभात*
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कन्या रूपी माँ अम्बे
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
मुस्कराता चेहरा
मुस्कराता चेहरा
shabina. Naaz
खुद से मिल
खुद से मिल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
सत्य कुमार प्रेमी
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
Ravi Prakash
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
Loading...