Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 25, 2022 · 1 min read

मातृभूमि

कह नहीं पाते जो वो लिख देते है।
अकेले है हम खुद रोकर चुप हो लेते है।
कुदरत ने जो भी दिया है कबूल है हमें।
कुछ बड़ा बनाना चाहती है हमें इसलिए शायद ठोकर ठोकर दे देकर मजबूत कर रही है।
समझ में नहीं आता कि ये मेरी ज़िन्दगी ज़रूर किसी न किसी की कृपा दृष्टि से चल रही है।
तुम्हारी इतनी हैसियत तो नहीं ।
पर तुम जैसी हसीनो को हम औकात दिखा देंगे।
अहंकार हो गया मतलब खुदा को भुला दिया।
जिसने तुम्हे जन्म दिया उसे दुत्कार दिया।
हे ! अंग्रेजी बोलने वाले पर मत जाओ।
मातृभूमि से बढ़कर कोई मां नहीं होती।

1 Like · 1 Comment · 60 Views
You may also like:
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
कभी - कभी .........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दीपावली
Dr Meenu Poonia
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
*भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
'अशांत' शेखर
** मेरे खुदा **
Swami Ganganiya
अपनी जिंदगी
Ashok Sundesha
*रठौंडा मन्दिर यात्रा*
Ravi Prakash
'चाँद गगन में'
Godambari Negi
✍️करम✍️
'अशांत' शेखर
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
'अशांत' शेखर
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोस्ती का जो
Dr fauzia Naseem shad
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
#मोहब्बत मेरी
Seema Tuhaina
💔💔...broken
Palak Shreya
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास
Ram Krishan Rastogi
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नई तकदीर
मनोज कर्ण
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
हर लम्हा।
Taj Mohammad
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
Loading...