Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

मातु शारदे वंदना

मातु शारदे वंदना,करता जग है आज।
रहती माता की कृपा,रहता सुंदर साज।
रहता सुंदर साज,सोच उत्तम बन जाती।
हो विद्या शृंगार,बुद्धि नव ऊर्जा पाती।
विनय करे नित ओम,मातु उत्तम विचार दे।
बरसा के मधु प्यार,तार दो मातु शारदे।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बारिश
बारिश
Sushil chauhan
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3234.*पूर्णिका*
3234.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहू-बेटी
बहू-बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Love
Love
Kanchan Khanna
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
"वो बुड़ा खेत"
Dr. Kishan tandon kranti
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*Author प्रणय प्रभात*
बात का जबाब बात है
बात का जबाब बात है
शेखर सिंह
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
Paras Nath Jha
अपने प्रयासों को
अपने प्रयासों को
Dr fauzia Naseem shad
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
शिव प्रताप लोधी
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
कवि रमेशराज
पतझड़
पतझड़
ओसमणी साहू 'ओश'
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
देखी नहीं है कोई तुम सी, मैंने अभी तक
देखी नहीं है कोई तुम सी, मैंने अभी तक
gurudeenverma198
शादाब रखेंगे
शादाब रखेंगे
Neelam Sharma
मैं कुछ इस तरह
मैं कुछ इस तरह
Dr Manju Saini
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
सकट चौथ की कथा
सकट चौथ की कथा
Ravi Prakash
Loading...