Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

*माता (कुंडलिया)*

माता (कुंडलिया)

माता जग-जननी हुई, माता जग-आधार
माता ने जग को रचा, माता से संसार
माता से संसार, जन्म कन्या ले आती
माता के बहु-रूप, सृष्टि बहु-भॉंति चलाती
कहते रवि कविराय, नमन हे जगत-विधाता
नमन-नमन सौ बार, नमन तुमको हे माता
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
अमर काव्य
अमर काव्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संघर्ष
संघर्ष
विजय कुमार अग्रवाल
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
Red Hot Line
Red Hot Line
Poonam Matia
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
मन भर बोझ हो मन पर
मन भर बोझ हो मन पर
Atul "Krishn"
अंदाज़-ऐ बयां
अंदाज़-ऐ बयां
अखिलेश 'अखिल'
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
दया के पावन भाव से
दया के पावन भाव से
Dr fauzia Naseem shad
2306.पूर्णिका
2306.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" मृत्यु "
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
राम का चिंतन
राम का चिंतन
Shashi Mahajan
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
क्या चरित्र क्या चेहरा देखें क्या बतलाएं चाल?
क्या चरित्र क्या चेहरा देखें क्या बतलाएं चाल?
*प्रणय प्रभात*
अशोक चाँद पर
अशोक चाँद पर
Satish Srijan
क्रिकेट का पिच,
क्रिकेट का पिच,
Punam Pande
Loading...