Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

माटी कहे पुकार

माटी कहे पुकार

हम भी माटी,तुम भी माटी, माटी सब संसार।
माटी से सब बने चराचर, माटी कहे पुकार।।
सदा प्रेम से रहना बंदे, करना धरा श्रंगार।
हम भी माटी तुम भी माटी, माटी सब संसार।।
माटी से सब बने चराचर माटी कहे पुकार।।
हम भी पानी, तुम भी पानी, पानी सब संसार।
पानी से जीवन है जग में, पानी कहे पुकार।
सदा प्रेम से रखना मुझको, मत करना बेकार।।
हम भी पानी तुम भी पानी, पानी सब संसार।।
हम आकाश अग्नि पवन हैं, तुम में भी है सबका वास।
नहीं कभी प्रदूषित करना, ध्यान ये रखना भैया खास।।
पंचतत्व की सृष्टि में, जीवन का है सब में वास।।
हम भी माटी, तुम भी माटी, माटी सब संसार।
माटी से सब बने चराचर, माटी कहे पुकार।।
‌सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
दुनिया की गाथा
दुनिया की गाथा
Anamika Tiwari 'annpurna '
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मेरा आसमां*
*मेरा आसमां*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
सोच बदलनी होगी
सोच बदलनी होगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"जंगल की सैर"
पंकज कुमार कर्ण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
Madhuyanka Raj
गीत (प्रेम की पीड़ा अटल है)
गीत (प्रेम की पीड़ा अटल है)
डॉक्टर रागिनी
बेटियां
बेटियां
Neeraj Agarwal
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Them: Binge social media
Them: Binge social media
पूर्वार्थ
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
क्या लिखूँ
क्या लिखूँ
Dr. Rajeev Jain
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
VINOD CHAUHAN
जब भी दिल का
जब भी दिल का
Neelam Sharma
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
Ravi Prakash
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
Loading...