Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

मां

मां सिर्फ स्त्री नहीं थी
वह आंगन थी
चूल्हा थी
भोजन की थाली थी ।
वह पेड़ थी
छाया थी
खुशी थी खुशहाली थी
**धीरजा शर्मा***

Language: Hindi
1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dheerja Sharma
View all
You may also like:
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
अनजान राहें अनजान पथिक
अनजान राहें अनजान पथिक
SATPAL CHAUHAN
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
2939.*पूर्णिका*
2939.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
बदलियां
बदलियां
surenderpal vaidya
लेखक कि चाहत
लेखक कि चाहत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्राई फॉर लव
क्राई फॉर लव
Shekhar Chandra Mitra
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमको
हमको
Divya Mishra
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
VINOD CHAUHAN
"भूल गए हम"
Dr. Kishan tandon kranti
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
*खरगोश (बाल कविता)*
*खरगोश (बाल कविता)*
Ravi Prakash
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इशारा दोस्ती का
इशारा दोस्ती का
Sandeep Pande
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
वक़्त का समय
वक़्त का समय
भरत कुमार सोलंकी
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
#गणपति_बप्पा_मोरया
#गणपति_बप्पा_मोरया
*प्रणय प्रभात*
मां
मां
Irshad Aatif
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
Loading...