Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

मां

माँ

“प्रभु, मेरी पंजी के मुताबिक इस आत्मा ने अपने पूरे जीवनकाल में एक बार भी भगवान का नाम नहीं लिया है।” चित्रगुप्त ने यमराज को बताया।
“क्या, चित्रगुप्त की इस बात से तुम सहमत हो ?” यमराज ने उससे पूछा।
“हे देव, पिताजी की मृत्यु मेरे जन्म के सालभर बाद ही एक दुर्घटना में हो गई थी। जब मैंने आँखें खोली, तो सामने मुझे माँ ही दिखी। सोते-जागते, उठते-बैठते वही दिखने लगी। माँ के आगे मुझे कोई दूसरा भगवान दिखा ही नहीं। जब भी मैं माँ कहता, लगता कि भगवान का नाम ले रहा हूँ।” उसने कहा।
नम आँखों से चित्रगुप्त और यमराज उस दिव्यात्मा के सामने नतमस्तक थे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
कुडा/ करकट का संदेश
कुडा/ करकट का संदेश
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शहज़ादी
शहज़ादी
Satish Srijan
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*अलविदा तेईस*
*अलविदा तेईस*
Shashi kala vyas
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
बारह ज्योतिर्लिंग
बारह ज्योतिर्लिंग
सत्य कुमार प्रेमी
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
"भुला ना सकेंगे"
Dr. Kishan tandon kranti
यह कौनसा आया अब नया दौर है
यह कौनसा आया अब नया दौर है
gurudeenverma198
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
नाथ सोनांचली
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अनूप अम्बर
मुझे अंदाज़ है
मुझे अंदाज़ है
हिमांशु Kulshrestha
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
Ram Krishan Rastogi
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
Phool gufran
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ आज का कटाक्ष...
■ आज का कटाक्ष...
*Author प्रणय प्रभात*
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
💐प्रेम कौतुक-179💐
💐प्रेम कौतुक-179💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*सबसे अच्छी मॉं के हाथों, निर्मित रोटी-दाल है (हिंदी गजल)*
*सबसे अच्छी मॉं के हाथों, निर्मित रोटी-दाल है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
Loading...