Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2022 · 1 min read

मां

देखने को आईना जब भी उठाया मैंने
मां का अक्स उभरकर फिर नज़र आया आईने में

नहीं मिलता साथ मां जैसा जहान में
चाहे खरीद लो हर चीज शौहरत के गुमान में।

– सुमन मीना (अदिति)

“गुलज़ार हो जाती है ये ज़िंदगी, जब मां की दुआ साथ हो।”

4 Likes · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
चुप
चुप
Dr.Priya Soni Khare
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
नर को न कभी कार्य बिना
नर को न कभी कार्य बिना
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
3370⚘ *पूर्णिका* ⚘
3370⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
World Environment Day
World Environment Day
Tushar Jagawat
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
यक्ष प्रश्न है जीव के,
यक्ष प्रश्न है जीव के,
sushil sarna
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
हमको गैरों का जब सहारा है।
हमको गैरों का जब सहारा है।
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
गांव में फसल बिगड़ रही है,
गांव में फसल बिगड़ रही है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ये बिल्कुल मेरी मां जैसी ही है
ये बिल्कुल मेरी मां जैसी ही है
Shashi kala vyas
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
जो  रहते हैं  पर्दा डाले
जो रहते हैं पर्दा डाले
Dr Archana Gupta
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
FUSION
FUSION
पूर्वार्थ
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...