Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2024 · 1 min read

मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।

मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
शुभ चिंतक कहने लगे, जियो जियो हे मीत।।
सूर्यकांत

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
Buddha Prakash
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
*दया करो हे नाथ हमें, मन निरभिमान का वर देना 【भक्ति-गीत】*
*दया करो हे नाथ हमें, मन निरभिमान का वर देना 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
मान बुजुर्गों की भी बातें
मान बुजुर्गों की भी बातें
Chunnu Lal Gupta
तुम अपने धुन पर नाचो
तुम अपने धुन पर नाचो
DrLakshman Jha Parimal
सोच
सोच
Sûrëkhâ
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
Ram Krishan Rastogi
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
मंजिल छूते कदम
मंजिल छूते कदम
Arti Bhadauria
सरहद पर गिरवीं है
सरहद पर गिरवीं है
Satish Srijan
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*प्रणय प्रभात*
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
gurudeenverma198
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
भीड से निकलने की
भीड से निकलने की
Harminder Kaur
नरेंद्र
नरेंद्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
लोकतांत्रिक मूल्य एवं संवैधानिक अधिकार
लोकतांत्रिक मूल्य एवं संवैधानिक अधिकार
Shyam Sundar Subramanian
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ बातें ज़रूरी हैं
कुछ बातें ज़रूरी हैं
Mamta Singh Devaa
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
Loading...