Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

माँ

लब्जों से कैसे करूँ,माता का गुणगान।
लगता माँ के सामने, फीका-सा भगवान।।

लाड़-प्यार से जो सदा,देती सच्चा ज्ञान।
सुत हित में सुख-दुख सहा,दिया अभय का दान।।

भूखी-प्यासी रात- दिन,सेवा में तैयार।
रुग्ण -मनौती माँगती,माता बारंबार।।

नित दिन प्रेमामृत पिला,किया सतत् कल्याण।
हर लेती सारी तपिश,माँ ही देती त्राण।।

रहे ध्यान माँ ने दिया, इस जीवन को अर्थ।
गलती से मत सोचना,माँ है घर में व्यर्थ।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
1 Like · 417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
*जितनी जिसकी सोच संकुचित, वह उतना मेधावी है    (मुक्तक)*
*जितनी जिसकी सोच संकुचित, वह उतना मेधावी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दोहे- अनुराग
दोहे- अनुराग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*प्रणय प्रभात*
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dr. Mulla Adam Ali
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
कविता
कविता
Dr.Priya Soni Khare
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
शादी
शादी
Adha Deshwal
3296.*पूर्णिका*
3296.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पंछी
पंछी
sushil sarna
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
आर.एस. 'प्रीतम'
खुद के साथ ....खुशी से रहना......
खुद के साथ ....खुशी से रहना......
Dheerja Sharma
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
"परवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
शेखर सिंह
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
Loading...