Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2017 · 1 min read

माँ

माँ माँ…………….

माँ मैं तुझे बहुत प्यार करता हूँ
इस जन्म क्या हर जन्म तेरा बेटा
होने की मैं ख़ुदा से फरियाद करता हूँ।

माँ तेरे आँचल जैसा
सुकूँ कहाँ इस जग में
मैं तो तेरे आँचल जैसे सुकूँ
में खोना चाहता हूँ।

माँ तू ही तो थी जो मेरे अंतर्मन
की आवाज़ सुन लेती थी
हँसते हँसते मेरी हर ज़िद को
तुम पूरा कर देती थी।

हाथ रख मेरे माथे पर
माँ तुम प्यार से सहला देती थी
एक प्यारी सी लोरी सुनाकर
माँ तुम मुझे सुला देती थी।

ख़ुद की अरमानों को दबाकर
ज़िद मेरी तुम्हारे अरमान बन जाते थे
माँ को जगाकर मुझे मुझें सुला देते थे।

अब कई रात मैं चैन से
नही सो पाता हूँ
माँ की लोरी को याद करता हूँ
तो”रो” जाता हूँ।

एक “माँ” शब्द में मुझे कोई
जादू सा लगता है
अंजान हूँ,मैं आज तक इस तथ्य से
माँ मुझे इंसान नही भगवान का अंश
लगता है।

अब मैं खुदा से सिर्फ
माँ तेरे साथ होने की फ़रियाद
करता हूँ।

भूपेंद्र रावत
05/02/2017

Language: Hindi
1 Like · 544 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
'अशांत' शेखर
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं
जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं
Sangeeta Beniwal
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
Vindhya Prakash Mishra
💐प्रेम कौतुक-499💐
💐प्रेम कौतुक-499💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनी गजब कहानी....
अपनी गजब कहानी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
कवि दीपक बवेजा
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
भोले भाले शिव जी
भोले भाले शिव जी
Harminder Kaur
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
शेखर सिंह
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
Phool gufran
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
रोटी की ख़ातिर जीना जी
रोटी की ख़ातिर जीना जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक सूखा सा वृक्ष...
एक सूखा सा वृक्ष...
Awadhesh Kumar Singh
चाय के दो प्याले ,
चाय के दो प्याले ,
Shweta Soni
2930.*पूर्णिका*
2930.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
पूर्वार्थ
गर्मी आई
गर्मी आई
Manu Vashistha
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
"परखना "
Yogendra Chaturwedi
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ख्वाबों में मिलना
ख्वाबों में मिलना
Surinder blackpen
Loading...