Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

माँ शारदे

1
थाम लो ये हाथ दो वरदान हे माँ शारदे
रख सकूँ कुछ लेखनी का मान हे माँ शारदे
कंठ में भी आ विराजो माँ कृपा कर आप ही
गा सकूँ बस आपके गुणगान हे माँ शारदे

2
मिलता हमको वो नही जो ढूंढते हैं
या जो होता ही नहीं वो ढूंढते हैं
है दिखावा आज जग में हर तरफ ही
आज हम खुद में भी खुद को ढुँढतें हैं
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
1 Comment · 825 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
Jyoti Khari
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
संजय कुमार संजू
"जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
Sonu sugandh
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
Rj Anand Prajapati
👌आज का शेर —
👌आज का शेर —
*Author प्रणय प्रभात*
*रेल हादसा*
*रेल हादसा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यह मन
यह मन
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-504💐
💐प्रेम कौतुक-504💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
2649.पूर्णिका
2649.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
व्यथा
व्यथा
Kavita Chouhan
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
umesh mehra
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
कवि दीपक बवेजा
Are you strong enough to cry?
Are you strong enough to cry?
पूर्वार्थ
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
ख़ान इशरत परवेज़
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
बाबुल का आंगन
बाबुल का आंगन
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...