Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 24, 2016 · 1 min read

माँ शारदे

1
थाम लो ये हाथ दो वरदान हे माँ शारदे
रख सकूँ कुछ लेखनी का मान हे माँ शारदे
कंठ में भी आ विराजो माँ कृपा कर आप ही
गा सकूँ बस आपके गुणगान हे माँ शारदे

2
मिलता हमको वो नही जो ढूंढते हैं
या जो होता ही नहीं वो ढूंढते हैं
है दिखावा आज जग में हर तरफ ही
आज हम खुद में भी खुद को ढुँढतें हैं
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Comment · 586 Views
You may also like:
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
Green Trees
Buddha Prakash
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Satpallm1978 Chauhan
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
झूला सजा दो
Buddha Prakash
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
आओ तुम
sangeeta beniwal
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...