Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2023 · 1 min read

माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही

माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
जो ऐसा व्यवहार करती है हद से ज्यादा प्यार
उससे भी ज्यादा परवाह करती है।।
दोस्तों में भी माँ मिल जाती है कभी-कभी
जो डाँटते है गुस्सा होते हैं साथ में हँसते हैं पर साथ रोते नहीं
वो रोते देखकर कहते हैं ..ये चल न कहीं घूम कर आते हैं
तेरे फेवरेट हीरो की मूवी आयी है चल तुझको दिखाते हैं
माँ दोस्त होती है ,दोस्त “माँ” से हो जाते हैं कभी-कभी

Ruby kumari

139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
VINOD CHAUHAN
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
"शिक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चले न कोई साथ जब,
चले न कोई साथ जब,
sushil sarna
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
शेखर सिंह
*धन्य विवेकानंद प्रवक्ता, सत्य सनातन ज्ञान के (गीत)*
*धन्य विवेकानंद प्रवक्ता, सत्य सनातन ज्ञान के (गीत)*
Ravi Prakash
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
Shweta Soni
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
कवि दीपक बवेजा
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
Surinder blackpen
■सामयिक दोहा■
■सामयिक दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Sukoon
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...