Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2022 · 1 min read

माँ +माँ = मामा

मेरी माँ से बढ़कर दो माँ माँ हो
क्या कहें कि क्या से क्या हो,
तुच्छ तृण को स्वर्ण बनाया
माना मैंने की तुम ही खुदा हो l

शब्द नहीं जो वर्णित कर दू
कद नन्हा पर काव्य न रच दू,
भाव भवर में भ्रमित भान का
प्रेम प्रबल में अपराध न कर दू l

तर्पण सच्चा सत्य प्रतिष्ठा हो
हम कैसे मानें की इंसान हो,
बरबस आते हो हर पीड़ा में
क्यों ना तुमको सब अर्पण हो l

दीन हीन के दिन बदले है
काले थे बादल अब उजले है,
छटी घटा जो घोर घन्य थी
श्याह निशा के तुम दिनकर हो l

ओजस्वी, ज्ञानी,मौनी मानक हो
हम हैं रज कण पर तुम साधक हो,
शांत सवेरा कड़े कर्म का
अग्निपथ के तुम धावक हो l

अस्तित्व शून्य का शौर्य बनाया
राह शूल का मूल घटाया,
चाह रही है तट पाने की
टूटी नैया के तुम माझी हो l

महेन्द्र कुमार राय
9935880999

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2788. *पूर्णिका*
2788. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
"यह कैसा दौर?"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
दूर की कौड़ी ~
दूर की कौड़ी ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
Dr Archana Gupta
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहते हैं लोग
कहते हैं लोग
हिमांशु Kulshrestha
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
🙅पक्का वादा🙅
🙅पक्का वादा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जब से मेरी आशिकी,
जब से मेरी आशिकी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
Loading...