Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 2 min read

माँ

यू ही नहीं एक माँ,माँ बन जाती है।
रखती नौ मास गर्भ में सहेज के भूर्ण को
वहाँ अपने रक्त से सींच कर उसे शिशु बनाती
सहती प्रसव पीड़ा भयंकर,
तब जन्म नव शिशु को दे पाती ।
रातों की नींद देकर उस को चैन से सुलाती।
छोड़ के मोह अपनी काया का अपने स्तनों से दूध पिलाती।
रोता अगर नींद में डर कर जब बालक।
जाग के उसे लोरी सुनाती।
भूल कर अपने नक्से और नाज,
बालक के मल मूत्र को साफ करती।
भूल जाती अपना सजना और सँवरना,
पर बालक को स्वच्छ वस्त्रों से महकाती।
जब दूर कहि भूख से रोता बालक,
स्तनों से माँ के बहती दूध की धार।
रह जाती खुद भूखी और प्यासी
मगर निज लाल को खाना खिलाती ।
ऊँगली पकड़कर धीरे-धीरे चलना सिखाती।
सुना कर कहानी राम और कृष्ण की,
बालक को वो सदाचार सिखाती।
जब भी रोता या उदास होता बच्चा,
गुनगुना कर मीठे भजन सुनाती।
सिखाती की खूबसूरत है दुनियाँ
स्वर्ग सी,रख के होठों पर मुस्कान,
दुनियाँ की कटुता छुपाती।
जब चोट कही लग जाती।
माँ के दिल तक आह पहुँच जाती।
लड़ लेती दुनियाँ से काली और दुर्गा बन कर,
जब कभी बच्चे पर विपदा आती।
सिखाती उस को कैसे करे मल मूत्र का त्याग।
कैसे संयम रखें अपनी इंद्रियों पर,
कैसे बनाये खुद को मजबूत।
कैसे रखे सुरक्षित खतरों से।
कैसे आगे बड़े डर से छोड़कर जब
बच्चे को स्कूल वह आती है
कहां चैन से सो पाती है ।
बनती कठोर वह बालक के आगे ,
जब वह कोई गलती करता है ।
उसको मार के ,अपने अश्क को छुपाती।
करती पूजा नित्य वो पर अपने लिए नही,
परिवार के लिए दुआएँ मांगती।
नन्हे-नन्हें हाथों में कलम थमाना और उसे पढ़ाना सिखाती अपने हाथों से खाना बनाकर ,
दुनियाँ की मिठास उसमें मिलाती।
ऐसे वह निजी लाल को खाना खिलाती ।
यूं ही नहीं कोई माँ ,माँ बन जाती
सहती भूख और प्यास तब खाना बनाती।
यूं ही नहीं कोई माँ,माँ बन जाती।
संध्या चतुर्वेदी
मथुरा यूपी

10 Likes · 4 Comments · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“जागू मिथिलावासी जागू”
“जागू मिथिलावासी जागू”
DrLakshman Jha Parimal
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कविता
कविता
Rambali Mishra
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इक पखवारा फिर बीतेगा
इक पखवारा फिर बीतेगा
Shweta Soni
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
*तेरी याद*
*तेरी याद*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"चीख उठते पहाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
#जालसाज़ों_की_दुनिया_में 😢😢
#जालसाज़ों_की_दुनिया_में 😢😢
*प्रणय प्रभात*
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कुलदीप बनो तुम
कुलदीप बनो तुम
Anamika Tiwari 'annpurna '
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
Ravi Prakash
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
gurudeenverma198
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Neeraj Mishra " नीर "
ओ मेरे गणपति महेश
ओ मेरे गणपति महेश
Swami Ganganiya
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
2720.*पूर्णिका*
2720.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
$ग़ज़ल
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
इस नये दौर में
इस नये दौर में
Surinder blackpen
Loading...