Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप – शैलपुत्री*

माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप – शैलपुत्री
“शैलपुत्री माँ”
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा नव संवत्सर ,
शुभ मुहूर्त मंगल बेला में।
द्वार सजे रंगोली आम्र पल्लव वंदनवार घर आँगन में।

प्रथम स्वरूपा शैलपुत्री माँ आलौकिक छबि लिए ,
शोभित घट कलश स्थापना
शंख ध्वनि मृदंग बाजे मन मंदिर में।

बाँये हाथ कमल पुष्प सुशोभित दांए हाथ त्रिशूल लिए ,
वृषभ पे सवार होकर श्वेत वस्त्र धारण सुख समृद्धि शांतिपूर्ण जीवन में।

जीवन में छाया घना अंधेरा
चेतना जगाती ऊर्जा शक्ति लिए ,
गहरे अद्भुत अनुभव भावनाओं के गहवर में।
ज्ञान की ज्योति जला इस सुने से मन मंदिर में।

पर्वतराज हिमालय की पुत्री
ममतामयी मैना करुणा लिए,
शिव शक्ति का मिलन जगत का कल्याण करने संदेश जगाते अंतर्मन में।
शैलपुत्री की उपासना हर्ष उल्लास लिए ,
शक्ति का स्वरूप व्याधियों को हरती सारा संसार जपे अंतर्मन में।

रिद्धि सिद्धि वंश वृद्धि करने के लिए,
हॄदय में ज्ञान का भंडार भरे चेतना में ध्यान साधना तल्लीन मन में।
धनधान्य परिपूर्ण करते हुए अद्भुत शक्ति लिए ,
आराधना करने से मनोवांछित फल देती आत्मा को शुद्ध मन में।

चैती चांद नव वर्ष अद्भुत शक्ति उमंग लिए ,
बाँसती नवरात्रि पर्व आस्था विश्वास नये साल में।
दुख दारिद्र दूर कर निरोगी काया लिए ,
चैतन्यता जगाई रोग शोक दूर बिगड़े काम संवारती
अंतर्मन में पधारती लाल पाँव कुमकुम भरे कदमों में।
*ॐ शैलपुत्री देव्यै नमः

शशिकला व्यास शिल्पी✍️🙏🚩🌹

1 Like · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"In the tranquil embrace of the night,
Manisha Manjari
मुझे फर्क पड़ता है।
मुझे फर्क पड़ता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"औरत ही रहने दो"
Dr. Kishan tandon kranti
Love Letter
Love Letter
Vedha Singh
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
Sanjay ' शून्य'
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
शेखर सिंह
टूट गया हूं शीशे सा,
टूट गया हूं शीशे सा,
Umender kumar
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी एक सफर
जिंदगी एक सफर
Neeraj Agarwal
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
*प्रणय प्रभात*
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr .Shweta sood 'Madhu'
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
यारी
यारी
Dr. Mahesh Kumawat
सफर
सफर
Ritu Asooja
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मोहब्बत
मोहब्बत
Dinesh Kumar Gangwar
फितरत दुनिया की...
फितरत दुनिया की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
The wrong partner in your life will teach you that you can d
The wrong partner in your life will teach you that you can d
पूर्वार्थ
Loading...