Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 29, 2022 · 2 min read

माँ तुम अनोखी हो

माँ मुझे इतना बताओं
तुम्हारे पास दुनियाँ की
वह कौन सी टेली-पेथी
वाली मशीन है ,
जो तुम्हारे पास वर्षों से थी
और दुनियाँ को इसकी
कोई खबर ही न चली।

माँ जब में बोली भी नहीं सकती थी ,
फिर भी तुम कैसे
मेरी हर बात समझ जाती थी।
मुझे भुख लग रहा है, या
लग रहा मुझे प्यास ,
तुम कैसे मेरे बिन बोले
यह बात समझ जाती थी।

मेरे शरीर के किन हिस्सों में
हो रहा है तकलीफ
मुझे दर्द हो रहा है या
कोई भी अन्य कारण हो,
तुम कैसे यह सब जान जाती थी।
मुझे जरा इतना बता दे,
तुम कैसे यह कर लेती थी।

चाहे तुम कितनी भी गहरी
नींद मैं क्यों न सोई हो।
चाहे तुम थक कर कितनी भी
चूर-चूर क्यों न हुई हो,
पर मेरी आँखे खोलते ही
तेरी आँखे भी कैसे खुल जाती थी।

तुम कैसे मुझे झट से
गोद मै लेकर बैठ जाती थी।
मेरे नींद न आने तक
तुम कैसे अपने नींद पर
विजय पाती थी।
वह कौन सी अलार्म थी,
जो तेरे दिल को मेरी धड़कन
के साथ जोड़ रखी थी।

आज जबकि मैं दुर देश में
रहने लगी हूँ,
फिर तुम वहाँ से कैसे माँ
मेरी हर हाल समझ जाती है
मै दर्द मे हूँ या खुशी मैं,
तुम कैसे जान जाती हैं।
मेरे हाल बताने से पहले
तेरा टेलीफोन मेरे हाल पुछने
कैसे चली आती हैं।

तेरा सबसे पहले यह पूछना
सब कुछ ठीक है ना
खुशी हो या हो गम
मुझे रूला देती है।
तुम्हारा दुसरा प्रश्न भी तो
कुछ इसी तरह का होता है
अभी खाई हो या न खाई हो
जब तक हाँ मै उतर न मिले
तेरा दिल वही पर अटका रहता है।

सच कहूँ तो आजतक माँ
मुझे तुम समझ मै न आई
जितना तेरे प्यार के सागर मै डूबी
डूबते चली गई ।
पर पता न चल पाया माँ
तेरे अंदर प्यार की
और कितनी बड़ी है खाई।

सच कहूँ माँ आज तक
कोई भी ऐसी मशीन ही न बनी
जो तेरी ममता को टक्कर दे सके
और नाप सके तेरे प्यार को।
माँ तुम अनोखी हो और
हमेशा तुम अनोखी ही रहोगी।

अनामिका

5 Likes · 2 Comments · 97 Views
You may also like:
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
"शौर्य"
Lohit Tamta
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
सहारा मिल गया होता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
Time never returns
Buddha Prakash
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...