Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2022 · 2 min read

माँ तुम अनोखी हो

माँ मुझे इतना बताओं
तुम्हारे पास दुनियाँ की
वह कौन सी टेली-पेथी
वाली मशीन है ,
जो तुम्हारे पास वर्षों से थी
और दुनियाँ को इसकी
कोई खबर ही न चली।

माँ जब में बोली भी नहीं सकती थी ,
फिर भी तुम कैसे
मेरी हर बात समझ जाती थी।
मुझे भुख लग रहा है, या
लग रहा मुझे प्यास ,
तुम कैसे मेरे बिन बोले
यह बात समझ जाती थी।

मेरे शरीर के किन हिस्सों में
हो रहा है तकलीफ
मुझे दर्द हो रहा है या
कोई भी अन्य कारण हो,
तुम कैसे यह सब जान जाती थी।
मुझे जरा इतना बता दे,
तुम कैसे यह कर लेती थी।

चाहे तुम कितनी भी गहरी
नींद मैं क्यों न सोई हो।
चाहे तुम थक कर कितनी भी
चूर-चूर क्यों न हुई हो,
पर मेरी आँखे खोलते ही
तेरी आँखे भी कैसे खुल जाती थी।

तुम कैसे मुझे झट से
गोद मै लेकर बैठ जाती थी।
मेरे नींद न आने तक
तुम कैसे अपने नींद पर
विजय पाती थी।
वह कौन सी अलार्म थी,
जो तेरे दिल को मेरी धड़कन
के साथ जोड़ रखी थी।

आज जबकि मैं दुर देश में
रहने लगी हूँ,
फिर तुम वहाँ से कैसे माँ
मेरी हर हाल समझ जाती है
मै दर्द मे हूँ या खुशी मैं,
तुम कैसे जान जाती हैं।
मेरे हाल बताने से पहले
तेरा टेलीफोन मेरे हाल पुछने
कैसे चली आती हैं।

तेरा सबसे पहले यह पूछना
सब कुछ ठीक है ना
खुशी हो या हो गम
मुझे रूला देती है।
तुम्हारा दुसरा प्रश्न भी तो
कुछ इसी तरह का होता है
अभी खाई हो या न खाई हो
जब तक हाँ मै उतर न मिले
तेरा दिल वही पर अटका रहता है।

सच कहूँ तो आजतक माँ
मुझे तुम समझ मै न आई
जितना तेरे प्यार के सागर मै डूबी
डूबते चली गई ।
पर पता न चल पाया माँ
तेरे अंदर प्यार की
और कितनी बड़ी है खाई।

सच कहूँ माँ आज तक
कोई भी ऐसी मशीन ही न बनी
जो तेरी ममता को टक्कर दे सके
और नाप सके तेरे प्यार को।
माँ तुम अनोखी हो और
हमेशा तुम अनोखी ही रहोगी।

अनामिका

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 4 Comments · 314 Views
You may also like:
बदल गए अन्दाज़।
Taj Mohammad
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
तेजस्वी यादव
Shekhar Chandra Mitra
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दर्द सबका भी सब
Dr fauzia Naseem shad
गजल
जगदीश शर्मा सहज
खुशी और गम
himanshu yadav
करते रहे हो तुम शक हम पर
gurudeenverma198
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अँगना में कोसिया भरावेली
संजीव शुक्ल 'सचिन'
करप्शन के टॉवर ढह गए
Ram Krishan Rastogi
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ज़मीं पे रहे या फलक पे उड़े हम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Santoshi devi
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
स्थानांतरण
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Writing Challenge- नृत्य (Dance)
Sahityapedia
“ मिलि -जुलि केँ दूनू काज करू ”
DrLakshman Jha Parimal
ईश्वर की अदालत
Anamika Singh
आंख ऊपर न उठी...
Shivkumar Bilagrami
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ऐ चाँद
Saraswati Bajpai
*रामलीलाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
"वृद्धाश्रम" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
✍️नियत में जा’ल रहा✍️
'अशांत' शेखर
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...