Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2022 · 2 min read

माँ तुम अनोखी हो

माँ मुझे इतना बताओं
तुम्हारे पास दुनियाँ की
वह कौन सी टेली-पेथी
वाली मशीन है ,
जो तुम्हारे पास वर्षों से थी
और दुनियाँ को इसकी
कोई खबर ही न चली।

माँ जब में बोली भी नहीं सकती थी ,
फिर भी तुम कैसे
मेरी हर बात समझ जाती थी।
मुझे भुख लग रहा है, या
लग रहा मुझे प्यास ,
तुम कैसे मेरे बिन बोले
यह बात समझ जाती थी।

मेरे शरीर के किन हिस्सों में
हो रहा है तकलीफ
मुझे दर्द हो रहा है या
कोई भी अन्य कारण हो,
तुम कैसे यह सब जान जाती थी।
मुझे जरा इतना बता दे,
तुम कैसे यह कर लेती थी।

चाहे तुम कितनी भी गहरी
नींद मैं क्यों न सोई हो।
चाहे तुम थक कर कितनी भी
चूर-चूर क्यों न हुई हो,
पर मेरी आँखे खोलते ही
तेरी आँखे भी कैसे खुल जाती थी।

तुम कैसे मुझे झट से
गोद मै लेकर बैठ जाती थी।
मेरे नींद न आने तक
तुम कैसे अपने नींद पर
विजय पाती थी।
वह कौन सी अलार्म थी,
जो तेरे दिल को मेरी धड़कन
के साथ जोड़ रखी थी।

आज जबकि मैं दुर देश में
रहने लगी हूँ,
फिर तुम वहाँ से कैसे माँ
मेरी हर हाल समझ जाती है
मै दर्द मे हूँ या खुशी मैं,
तुम कैसे जान जाती हैं।
मेरे हाल बताने से पहले
तेरा टेलीफोन मेरे हाल पुछने
कैसे चली आती हैं।

तेरा सबसे पहले यह पूछना
सब कुछ ठीक है ना
खुशी हो या हो गम
मुझे रूला देती है।
तुम्हारा दुसरा प्रश्न भी तो
कुछ इसी तरह का होता है
अभी खाई हो या न खाई हो
जब तक हाँ मै उतर न मिले
तेरा दिल वही पर अटका रहता है।

सच कहूँ तो आजतक माँ
मुझे तुम समझ मै न आई
जितना तेरे प्यार के सागर मै डूबी
डूबते चली गई ।
पर पता न चल पाया माँ
तेरे अंदर प्यार की
और कितनी बड़ी है खाई।

सच कहूँ माँ आज तक
कोई भी ऐसी मशीन ही न बनी
जो तेरी ममता को टक्कर दे सके
और नाप सके तेरे प्यार को।
माँ तुम अनोखी हो और
हमेशा तुम अनोखी ही रहोगी।

अनामिका

Language: Hindi
7 Likes · 4 Comments · 717 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब तक जरूरत अधूरी रहती है....,
जब तक जरूरत अधूरी रहती है....,
कवि दीपक बवेजा
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*Author प्रणय प्रभात*
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
बेहिसाब सवालों के तूफान।
बेहिसाब सवालों के तूफान।
Taj Mohammad
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
Arvind trivedi
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
औलाद
औलाद
Surinder blackpen
जितने चंचल है कान्हा
जितने चंचल है कान्हा
Harminder Kaur
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
shabina. Naaz
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
विचारों की आंधी
विचारों की आंधी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कान में रुई डाले
कान में रुई डाले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लिखना पूर्ण विकास नहीं है बल्कि आप के बारे में दूसरे द्वारा
लिखना पूर्ण विकास नहीं है बल्कि आप के बारे में दूसरे द्वारा
Rj Anand Prajapati
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
लक्ष्मी सिंह
सफ़र जिंदगी का (कविता)
सफ़र जिंदगी का (कविता)
Indu Singh
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
व्यक्तित्व की दुर्बलता
व्यक्तित्व की दुर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
अटल बिहारी मालवीय जी (रवि प्रकाश की तीन कुंडलियाँ)
अटल बिहारी मालवीय जी (रवि प्रकाश की तीन कुंडलियाँ)
Ravi Prakash
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
ସେହି କୁକୁର
ସେହି କୁକୁର
Otteri Selvakumar
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
Loading...