Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

// माँ की ममता //

सभी माँओं के चरणों में मेरी छोटी सी रचना समर्पित……

माँ ही प्रथम पाठशाला है
माँ ने दुःख सहकर पाला है
माँ संसार की अनुपम कृति है
माँ प्यार भरी संस्कृति है

माँ नूर नहीं कोहिनूर है
माँ प्रेम से भरपूर है
माँ खुदा का दूजा रूप है
मां प्यार भरा एक कूप है

माँ ममता का एक सागर है
माँ भक्ति का एक गागर है
माँ के बिन सृष्टि अधूरी है
माँ से सब इच्छा पूरी है

माँ तन-मन और धन है सारा
माँ पर जीवन ही अर्पण सारा
मां बच्चों की प्यास है
माँ से सबको ही आस है

माँ घुंघरू की झंकार है
माँ वीणा की झंकार है
मां बंशी की मीठी तान है
मां गुरुदेव का ज्ञान है

मां ईश्वर का वरदान है
मां आन,बान और शान है
माँ फूलों का मकरंद है
मां गीत,गजल और छंद है

मां जग की प्रेम कहानी है
मां के बिन दुनिया वीरानी है
माँ की महिमा का अंत नहीं
माँ उजड़ा हुआ बसंत नहीं

माँ मीरा जैसी भक्ति है
मां दुर्गा जैसी शक्ति है
माँ गीता और कुरान है
माँ वेद और पुराण है

मां गंगा का ही रूप है
माँ सृष्टि का ही स्वरुप है

60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3340.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3340.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
■ कमाल है साहब!!
■ कमाल है साहब!!
*प्रणय प्रभात*
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
कवि मोशाय।
कवि मोशाय।
Neelam Sharma
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
"साकी"
Dr. Kishan tandon kranti
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
चोट ना पहुँचे अधिक,  जो वाक़ि'आ हो
चोट ना पहुँचे अधिक, जो वाक़ि'आ हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
Shashi kala vyas
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
What if...
What if...
R. H. SRIDEVI
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
यादों के संसार की,
यादों के संसार की,
sushil sarna
नारी और चुप्पी
नारी और चुप्पी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
संविधान
संविधान
लक्ष्मी सिंह
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
Neeraj Agarwal
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*टहलें थोड़ा पार्क में, खुली हवा के संग (कुंडलिया)*
*टहलें थोड़ा पार्क में, खुली हवा के संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
Loading...