Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

माँ का घर

#शीर्षक:- माँ का घर

मुद्दतें बीत गयीं उस घर से बिदा हुए
बरसों हो गए नया घर बसाये हुए
ढेरों जिम्मेदारियाँ,
बच्चों पर समय बिताते हुए
कहाँ अपनी याद में
बस घर परिवार बच्चों की ख़ुशी में
ढूँढ़ लेती हूँ ख़ुद को
अपना वजूद और अपने आपको
पर
फिर भी भूल नहीं पाती
वो घर, मेरी माँ का घर
जब देखो खो जाती
याद बहुत है आती
ज़िंदा है ज़ेहन में वो पुरानी बातें
कुछ लोग, कुछ रिश्ते-नाते
कुछ हँसी ठिठोली,
कुछ कड़वी किसी की बातें
छींक आने पर, माँ का नज़र का टीका
एक रोटी कम खाने पर,
माँ का टोटका…
जी चाहता है उड़ान भरकर वहीं पहुँच जाए
वही ज़िंदगी फिर से जीना चाहे
कितना भी रमने की कोशिश करूँ
माँ का घर नहीं भूल पायी
रहती हूँ यहाँ अपने घर में
फिर भी दिल माँ के घर रहना चाहे ।

रचना मौलिक, अप्रकाशित, स्वरचित और सर्वाधिक सुरक्षित है

“प्रतिभा पाण्डेय” चेन्नई
27/7/2023

Language: Hindi
202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
Keep this in your mind:
Keep this in your mind:
पूर्वार्थ
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
ज़ुल्मत की रात
ज़ुल्मत की रात
Shekhar Chandra Mitra
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-555💐
💐प्रेम कौतुक-555💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2225.
2225.
Dr.Khedu Bharti
हम कहाँ जा रहे हैं...
हम कहाँ जा रहे हैं...
Radhakishan R. Mundhra
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
तेरी खुशबू
तेरी खुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
Sandeep Mishra
उत्थान राष्ट्र का
उत्थान राष्ट्र का
Er. Sanjay Shrivastava
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
Tum ibadat ka mauka to do,
Tum ibadat ka mauka to do,
Sakshi Tripathi
इबादत के लिए
इबादत के लिए
Dr fauzia Naseem shad
"नॉनसेंस" का
*Author प्रणय प्रभात*
आँगन पट गए (गीतिका )
आँगन पट गए (गीतिका )
Ravi Prakash
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
Loading...